जयपुर।

जालौर में हाईटेंशन लाइन से हुई बस दुर्घटना के मामले में सियासत परवान पर है। पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष वसुंधरा राजे ने सरकार से मांग की है कि इस तरह के प्रकरणों में लापरवाह अधिकारियों और कर्मचारियों पर सख्त कार्रवाई की जाए और भविष्य में इस प्रकार के हादसे ना हो इसको लेकर भी समुचित व्यवस्था की जाए।


वसुंधरा राजे ने फेसबुक पर एक पोस्ट के जरिए प्रदेश सरकार से ये मांग की। फेसबुक पर डाली गई पोस्ट इस प्रकार है…
प्रदेश में हाइटेंशन लाइन की चपेट में आकर वाहनों में करंट दौड़ने के कारण निर्दोष लोगों की मौत का सिलसिला लगातार जारी है। पिछले कुछ दिनों में अचरोल में एक यात्री बस पर 11 हजार केवी का वायर टूटकर गिरने से तीन लोगों की मौत हो गई। बांसवाड़ा में बिजली का तार गिरने से स्कूटी सवार शिक्षिका अकाल मृत्यु की शिकार हो गई। वहीं शनिवार रात जालोर में श्रद्धालुओं से भरी एक बस हाइटेंशन लाइन को छू जाने के कारण आग की चपेट में आ गई तथा देखते ही देखते 6 लोगों की मृत्यु हो गई। इतना ही नहीं अलवर, जयपुर व बानसूर जैसी दर्जनों घटनाओं ने भी राजस्थान में बिजली विभाग व राज्य सरकार की लापरवाही को खुलकर उजागर किया है।
मैं समझ सकती हूं इन हादसों में जिन परिवारों ने अपनों को खोया है, वो जीवनभर इस दर्द को भुला नहीं सकते। लेकिन अफसोस ! राज्य की कांग्रेस सरकार केवल घटना की कड़ी निंदा जताकर ही प्रत्येक मामले से इतिश्री कर लेती है।
मेरी सरकार से माँग है कि लापरवाह कर्मचारियों व अधिकारियों पर सख्त कार्रवाई की जाए और बिजली के झुलते तारों को ठीक करवाया जाए। ताकि निर्दोष राहगीरों को अपनी जान ना गवानी पड़े।
– वसुन्धरा राजे

फेसबुक पर किया गया पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे का पोस्ट