जयपुर।

जयपुर प्रदेश के 20 जिलों के 90 निकायों के प्रमुखों के चुनाव परिणाम आ चुके हैं निकाय प्रमुख चुनाव परिणाम में कांग्रेस का हाथ मजबूत हुआ है तो ही भाजपा अपनी पूर्व में कब्जे वाले  सभी निकायों को भी बचाने में असफल रहा। वहीं इन निकायों में आरएलपी और एनसीपी का भी खाता खुला है। 
चुनाव परिणाम इस तरह हैं..
इन निकायों में कांग्रेस के प्रमुख बने :-
केकड़ी, सरवाड़, गुलाबपुरा, देशनोक, बूंदी, लाखेरी, केशोरायपाटन, नैंनवा, कापरेन, इंद्रगढ़, बड़ी सादड़ी, बेगूं, राजलदेसर, रतनगढ़, सरदारशहर, तारानगर, सुजानगढ़, सागवाड़ा, संगरिया, पीलीबंगा, रावतसर, नोहर, भादरा, सांचौर, अकलेरा, भवानीमंडी, खेतड़ी, मंडावा, उदयपुरवाटी, मुकुंदगढ़, नवलगढ़, चिड़ावा, डेगाना, कुचामनसिटी, कुचेरा, लाडनूं, मेड़ता सिटी, छोटी सादड़ी, राजसमंद, फतेहपुर शेखावाटी, लक्ष्मणगढ़, रामगढ़ शेखावाटी, खंडेला, रींगस, लोसल, देवली, उनियारा, सलूम्बर, 

इन निकायों में बीजेपी का प्रमुख :-
अजमेर, बिजयनगर,किशनगढ़, कुशलगढ़, आसींद, भीलवाड़ा, जहाजपुर, मांडलगढ़, शाहपुरा, श्रीडूंगरगढ़, कपासन, बीदासर, छापर, रतननगर, डूंगरपुर, पोकरण, झालावाड़, पिड़ावा, झालरापटन, सूरजगढ़, बग्गड़, नावां, परबरसर, बाली, फालना, जैतारण, रानीखुर्द, सादड़ी, सोजत सिटी, तख्तगढ़, प्रतापगढ़, देवगढ़, श्रीमाधोपुर, निवाई, मालपुरा, टोडारायसिंह, फतेहनगर। 
नोखा में एनसीपी, मूंडवा में आरएलपी, नागौर में निर्दलीय, भींडर में निर्दलीय और गंगापुर में निर्दलीय।

पिछले चुनाव में बीजेपी के पास 90 में से छह 60 निकाय थे लेकिन अब 37 ही कब्जे में है। मतलब 23 निकाय बीजेपी के हाथ से इन चुनाव में फिसल गए। वहीं पिछले चुनाव में कांग्रेस के पास 25 और निर्दलीयों के कब्जे में 5 निकाय थे लेकिन इन चुनाव में कांग्रेस के हाथ की पकड़ मजबूत हुई और 48 निकायों में अपने प्रमुख बनाने में कांग्रेसी सफल रहे वही 3 निकायों में निर्दलीयों का कब्जा रहा।