जयपुर।

भाजपा विधायक व पूर्व मंत्री कालीचरण सराफ ने मुख्यमंत्री कोविड 19 मरीजों की संख्या में लगातार गिरावट और संक्रमण की वर्तमान स्थिति के मद्देनजर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को एक बार फिर पत्र लिखा है।


सराफ ने गहलोत से हठधर्मिता छोड़ने का आग्रह करते हुए व्यापारियों के हित में शहर से रात्रि कर्फ्यू हटाने अथवा ढ़ील देने की मांग की है। सराफ ने कहा कि कोरोना महामारी के कारण व्यापारी वर्ग पहले ही भयंकर वित्तीय संकट से गुजर रहा है उस पर अनावश्यक रूप से रात्रि कर्फ्यू जारी रखने की सरकार की जिद के कारण सारा काम धंधा चौपट होने से उसकी कमर ही टूट चुकी है। पिछले दस महीनों में से लगभग छः माह लॉक डाउन के कारण व्यापार ठप रहा और लॉक डाउन हटने के बाद व्यापार सामान्य रूप से गति भी नहीं पकड़ पाया था कि रात्रि कर्फ्यू लगा दिया गया इससे व्यापारियों के सामने और अधिक आर्थिक संकट खड़ा हो गया है। 


उन्होंने कहा कि सांय 6 बजे से रात्रि 10 बजे तक दुकानदारी के लिए सबसे मुफीद समय होता है क्योंकि ऑफिस या दफ्तर से आकर लोग खरीददारी के लिए निकलते हैं परन्तु कर्फ्यू के कारण सारा काम धंधा चौपट हो गया। रेस्टोरेंट, होटल तथा खाने पीने इत्यादि के व्यापारियों का तो और भी बुरा हाल है जिनका पूरा काम ही सांय 6 बजे के बाद शुरू होता है जो कर्फ्यू की वजह से बंद होने की कगार पर है। रात्रि कर्फ्यू के कारण जयपुर में प्रतिदिन करोड़ो रुपए का व्यापार प्रभावित हो रहा है।


सराफ ने कहा कि महत्वपूर्ण बात यह है कि कोविड के मामलों में लगातार कमी को देखते हुए देश के अन्य शहरों में रात्रि कर्फ्यू हटा लिया गया है लेकिन जयपुर के व्यापारियों द्वारा बार बार आग्रह करने के बाद भी राज्य सरकार ने शहर से कर्फ्यू हटाने का निर्णय नहीं लिया है जबकि व्यापारियों की ओर से कोविड गाइड लाइन का पूर्णतः पालन किया जा रहा है और भविष्य में स्वंय के एवं ग्राहकों द्वारा नियमों की पालना करने का भरोसा दिया जा रहा है। परन्तु राज्य की असंवेदनशील सरकार हठधर्मिता दिखाते हुए रात्रि कर्फ्यू में कोई ढ़ील नहीं दे रही है जिससे शहर के व्यापारियों में आक्रोश है।        

सराफ ने पत्र में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से मांग करते हुए कहा कि वर्तमान में कोरोना संक्रमण न्यूनतम स्तर पर है तथा वैक्सीन भी आ चुकी है इसलिए विषय पर सहानुभूतिपूर्वक विचार करें तथा भयंकर आर्थिक संकट का सामना कर रहे व्यापारी वर्ग की व्यथा को समझकर तुरन्त शहर से रात्रि कर्फ्यू हटाने अथवा ढ़ील देने के आदेश दें जिससे आर्थिक रूप से त्रस्त व्यापारियों को राहत मिल सके। गौरतलब है कि इससे पहले भी कालीचरण सराफ मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को इसी मांग को लेकर पत्र लिख चुके हैं लेकिन उस पर सरकार के स्तर पर अब तक कोई सकारात्मक फैसला नहीं लिया गया।